थाना अरावली विहार द्वारा सोनावा की डूंगरी में फायरिंग का तीसरा आरोपी गिरफ्तार
Date : Tuesday, March 13, 2018

थाना अरावली विहार ने दिनांक 12.03.2018 को श्री अनिल बेनीवाल सहायक पुलिस अधीक्षक दक्षिण अलवर के निर्देषन में थानाधिकारी मय टीम द्वारा दिन दहाडे हुई वारदात को गम्भीरता से लेते हुए सोनावा की डूंगरी में फायरिंग का आरोपी प्रकाष सैनी पुत्र नन्दकिषोर सैनी निवासी मालवीय नगर के सामने प्रकाष नर्सरी अलवर थाना अरावली विहार को गिरफ्तार किया जाकर गहनता से पूछताछ की जा रही है। तथा आरोपी 1-राकेष कुमार घाकड पुत्र सुगनचन्द निवासी 3/346, कालाकुआं अलवर 2-मोहित उर्फ बन्टी पुत्र गिर्राजप्रसाद खण्डेलवाल निवासी रंग भरियो की गली थाना कोतवाली अलवर को पूर्व में गिरफ्तार किये जा चुका है। गौरतलब है कि श्री जयसिंह पुत्र श्री विजयसिंह जाति बावरिया उम्र 35 साल निवासी सैक्टर नं0 03, विवेकानन्द नगर, सोनावा की डूंगरी अलवर ने पर्चा बयान किया कि दिनांक 25.02.2018 को दोपहर में अपने घर पर खाना खा रहा था । उसी समय एक स्कूटर व मोटर साईकिल पर 5 अज्ञात व्यक्ति आऐ । जिन्होने मुझे घर से बाहर बुलाया और घर के बाहर गली मे ले गये । जहां पर उनमें से एक व्यक्ति ने मुझे जान से मारने की नियत से कट्टे से गोली चलाई जो मेरे बांये पैर की जांघ पर लगी। जिससे मै घायल हो गया । मेरी पत्नी श्रीमती सुमन ने बीच बचाव कराया तो मेरी पत्नी के साथ भी उन लोगो ने मारपीट की। फिर मुझे सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया इत्यादि । घटना के पीछे कारण - घटना स्थल पर मिले साक्ष्यों एवं प्राप्त जानकारी से यह तथ्य सामने आये कि पीडित जयसिंह बावरिया क्रिकेट मैच का सट्टा का कारोबार करता है । जिसके पास आरोपी प्रकाष सैनी भी क्रिकेट मैच पर सट्टा लगाता है । घटना से एक दिन पूर्व साउथ अफ्रिका व इण्डिया का क्रिकेट मैच (20-20) था । इस क्रिकेट मैच पर आरोपी प्रकाष सैनी ने पीडित जयसिंह बावरिया के पास सट्टा लगाया और नगद पैसे जमा कराये थे । जिसमें आरोपी प्रकाष सैनी हार गया । हारने के बाद प्रकाष सैनी ने जयसिंह बावरिया से क्रिकेट सट्टे के जमा कराये गये पैसे वापिस मांगे । लेकिन जयसिंह बावरिया ने पैसे लौटाने से इन्कार कर दिया । इस पर प्रकाष सैनी ने यह बात अपने सगे दोस्त तार मौहम्मद उर्फ तारा मेव को बताई । जिस पर तार मौहम्मद ने अपने और दोस्त विकास यादव को बताई और पुलिस कर्मी राकेष धाकड को बताई । उसके बाद तार मौहम्मद उर्फ तारा, प्रकाष सैनी व विकास यादव तीनो मोटर साईकिल से नयाबास सर्किल पर आये है । जहां राकेष धाकड व उसका दोस्त मोहित उर्फ बन्टी मिलते है । फिर योजना तैयार करते है और नयाबास सर्किल से पॉचो रवाना होकर सोनावा स्थित जयसिंह बावरिया के घर पर पंहुचते है । जहां जयसिंह बावरिया को घर से बुलाकर एक गली में ले जाकर तार मौहम्मद उर्फ तारा मेव जयसिंह बावरिया को पैसे लौटाने की कहता है । लेकिन जयसिंह बावरिया पैसे लौटाने से इन्कार कर देता है । इसी दौराने तार मौहम्मद उर्फ तारा मेव जयसिंह बावरिया के उपर कट्टे से फायर कर देता है और पॉचो बदमाष घटना स्थल से भाग जाते है । प्रकरण का मुख्य आरोपी तारा उर्फ तारमौहम्मद व साथी आरोपी विकास यादव फरार चल रहे है । जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास जारी है ।